Blogs infotainment Latest national

विश्व रक्तदान दिवस -रक्तदान से जुड़े मिथक और सच !

blood donation day
World Blood Donation Day

By- Bhagyashree Gupta

आज 14 जून यानी विश्व रक्तदान दिवस पर इस महत्वपूर्ण काम से जुड़े कुछ मिथक और सच्चाई जान लेते हैं। कई लोग इन भ्रांतियों के चक्कर में रक्तदान जैसे पुण्य के काम को अंजाम देने में कतराते हैं। कुछ लोगों को तो यहां तक लगता है की रक्तदान करने से साइड इफेक्ट्स होते हैं।

पहला मिथक -पतले दुबले लोग रक्तदान के लिए उचित नहीं होते !

नहीं -ऐसा बिलकुल नहीं है। रक्तदान के लिए आपका वज़न ५० किलो के ऊपर ज़रूर होना चाहिए मगर आपके शारीरिक आकार से आपके रक्तदान की क्षमता तय नहीं होती। हालांकि कई बार देखा गया है की शरीर से वजनी लोग या आकार से वजनी लोगों को रक्त देने से मना कर दिया जाता है क्यूंकि ऐसे लोगों को ज्यादातर मोटापे से जुड़ी कई समस्या जैसे डायबिटीज या हार्ट सम्बंधित बीमारियां हो जाती हैं।

 

दूसरा मिथक -महिलाएं रक्त दान नहीं कर सकती हैं !

नहीं। यह बिलकुल गलत है। रक्त दान करने के लिए मनुष्य में हीमोग्लोबिन ( यानि एक ऐसा प्रोटीन जो हमारे शरीर में बह रहे खून को लाल रंग देता है) की मात्रा पर्याप्त होनी चाहिए। अगर आपके शरीर में इसकी मात्रा काम हो जाती है तो आप रक्तदान के लिए अयोग्य माने जाते हैं। अध्यन के अनुसार पुरुषों में महिलाओं की तुलना में हीमोग्लोबिन की मात्रा अधिक पायी जाती है। पर इसका मतलब ये बिलकुल भी नहीं  की महिलाएं रक्त दान करने के लिए फिट नहीं। आमतौर पर महिलाएं प्रेगनेंसी ,मासिक या किसी गंभीर बिमारी के कारण रक्त के ज़रूरी स्तर तक नहीं पहुंच पाती हैं। भारत में रक्तदान करनेवालों में मात्रा ४ % ही महिलाएं हैं।

world donation day
Donate Blood Donate Life

 

तीसरा मिथक- रक्तदान करने से बहुत दर्द होता है !

जी नहीं। रक्तदान की प्रक्रिया काफी आसान होती हैं। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान रक्त दान करने वालों को ज़रा भी दर्द का एहसास नहीं होता और कुल ३० मिनट का वक़्त लगता है। एक छोटी से सुई आपके नस में लगाके रक्त निकाल लिया जाता है। इस दौरान हलकी चुभन जैसी अनुभूति आपको होगी मगर यक़ीन मानिये इस प्रक्रिया के बाद आप वाकई बहुत अच्छा महसूस करेंगे।

 

चौथा मिथक -शाकाहारी व्यक्ति रक्त दान ना करें !

बिलकुल गलत। दरअसल मांसाहारी लोगों के रक्त में अधिक मात्रा में मीट का आयरन पाया जाता है जबकि शाकाहारी लोग भी रक्त दान उनके खान पान में ऐसी चीज़ों का सेवन ज्यादा हो जिससे हीमोग्लोबिन उनके रक्त में ज्यादा रहे। जैसे की पालक ,किशमिश ,राजमा ये सभी आयरन के अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं।

पांचवा मिथक -शरीर में सीमित रक्त होता है दान देना स्वास्थ्य के लिए अनुचित !

गलत। मनुष्य के शरीर में पाए जाने वाले रेड ब्लड सेल्स लगातार रक्त बनाने का काम करते हैं। रक्तदान करते ही इन सेल्स को रक्त की कमी का एहसास होजाता है और फिर ये नए रक्त बनाने का काम करने लगते हैं। इसलिए आपके रक्तदान करने से शरीर को कोई नुकसान नहीं हैं।

                                                                                                                       रक्त दान करें। जीवन दान करें।

/* ]]> */