Latest mukhya khabar national Politics

बचपन में विजय माल्या ने एक पैसा क्या खोया, पिता ने कर दिया था…

विजय माल्या

देश की बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर विदेश भागा विजय माल्या नाम का जिन्न एक बार फिर जादुई चिराग से बाहर निकल आया है। माल्या द्वारा देश छोड़ने से पहले वित्तमंत्री जेटली के साथ मुलाक़ात का बयान देने के बाद देश की राजनीति उफान पर आ गई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जहां जेटली पर आरोप लगाते हुए उनका वित्तमंत्री पद से इस्तीफे की मांग की है तो वहीं कांग्रेस के ही एक नेता का दावा है कि उन्होंने वित्तमंत्री अरुण जेटली और विजय माल्या को सेंट्रल हॉल में बात करते हुए देखा था। वहीं वित्तमंत्री अरुण जेटली ने माल्या के सभी आरोपों को झूठा और मनगढ़ंत बताया है।

इस सब से इतर आज हम आपको विजय माल्या के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिनको शायद ही बहुत कम लोग जानते हो। दरअसल, 1986 में विजय माल्या की मुलाकात एयर इंडिया की एयर होस्टेस, समीरा त्याबजी से हुई। इसके बाद उन दोनों ने शादी कर ली और उनका 7 मई 1987 को एक बच्चे, सिद्धार्थ माल्या का जन्म हुआ। इसके कुछ ही समय बाद दोनों का तलाक हो गया, लेकिन माल्या ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि उनका और उनकी पत्नी का रिश्ता काफी अच्छा था। जून 1993 में माल्या ने रेखा के साथ दूसरी शादी कर ली। कहा जाता है कि रेखा विजय माल्या के पड़ोस में रहने वाले मिस्टर महमूद की पत्नी थीं। मिस्टर महमूद विजय माल्या के अच्छे दोस्त भी बताये जाते थे। इस दौरान विजय माल्या और रेखा की आंखें चार हो गईं और माल्या अपनी पड़ोसन पर दिल दे बैठे। कुछ समय दोनों तक दोनों का प्यार परवान चढ़ा और दोनों की शादी हो गईं।

पैसे की अहमियत माल्या को बचपन में ही उस वक्त पता चल गई थी जब माल्या से एक नया पैसा खो जाने पर उनके पिता विट्ठल माल्या ने उनका नाम बही खाते की डायरी में दर्ज़ कर दिया था।

विजय माल्या से जुड़ी कई किताबों के अनुसार विजय माल्या को एक-एक पाई का मोल बचपन में सिखाया गया था। विजय के अरबपति पिता विट्ठल माल्या सख्त अनुशासन में यकीन रखते थे। बहुत पहले की बात है। विजय माल्या स्कूल में पढ़ते थे। पिता ने पॉकेट खर्च के लिए उन्हें कुछ पैसे दिये थे। उन पैसों में से एक नया पैसा विजय ने कहीं खो दिया। इस बात की जानकारी जब उनके पिता को मिली तो उन्होंने अपनी डायरी में इसे खाते की तरह दर्ज कर लिया।

विजय माल्या को न केवल पार्टियों का शौक है बल्कि उन्हें कारों से भी खास लगाव है। कारों को लेकर उनके प्यार का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकतें हैं कि किसी पुराने कारों के शोरूम में उतनी गाड़ियां नहीं होंगी जितनी की माल्या के गैराज में हैं। विजय माल्या को कारों का खास शौक है। वो न सिर्फ बड़ी-बड़ी गाड़ियों में सफर करते हैं बल्कि बहुत ही सलीके से उसे अपने माल्या कलेक्शन में महफूज रखा है। कहा जाता है विजय माल्या के कार कलेक्शन में दुनिया की कीमती से कीमती करीब 250 कारें मौजूद हैं पर वो आमतौर पर अपनी मेबैक 62 सिडान कार में फर्राटा भरना पसंद करतें हैं। अपनी किंगफिशर एयरलाइन्स के लिए उन्होंने जो कर्जा लिया था उसे नहीं चुका पाने की वजह से हाल ही में इनकी एक-एक कर कई कारें नीलाम हो गईं।

जानकार बताते हैं कि विजय माल्या चाहते थे कि लोग उन्हें शराब के बड़े व्यवसायी नहीं, बल्कि एक उद्योगपति के रूप में जानें। क्योंकि भारत में शराब व्यवसाय को अच्छी नज़रों से नहीं देखा जाता। इसलिए शायद माल्या ने इंजीनियरिंग, उर्वरक, टेलीविज़न और चार्टर विमान सेवा की कंपनियों में पैसे लगाए।

आज माल्या की इमेज एक डिफॉल्टर के रूप में बन गई है। लिकर किंग के नाम से मशहूर विजय माल्या व्यापार से ज्यादा अपनी लग्जरी लाइफ, दौलत और शोहरत को लेकर चर्चा में रहते थे। विंटेज कार्स, याट्स, हॉर्स रेस के अलावा डिफरेंट लुक्स फॉलो करने के लिए फेमस माल्या पर 17 बैंकों का करीब 9 हजार करोड़ रुपये कर्ज है। वे ब्रिटेन भाग गए थे। कर्ज में डूबने के बावजूद माल्या के ऐशो आराम और पेज थ्री की पार्टीज में कोई कमी नहीं आई।

/* ]]> */