mukhya khabar Politics

सरकार से फ्री में मिलता है पेट्रोल, इसलिए इन नेताजी को तेल के दाम से फर्क नहीं पड़ता. वाह…

देश की जनता बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दाम से परेशान है, चारों तरफ सरकार की किरकिरी हो रही है, लेकिन एक नेताजी ऐसे भी हैं जो जनता की परेशानी समझने के बजाय अटपटा बयान देकर सुर्खियों बटोर रहे हैं.

केंद्र सरकार में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री हैं रामदास अठावले. इन्होंने एक ऐसा बयान दिया जो जनता की परेशानी पर नमक छिड़कने जैसा है, दरअसल शनिवार को जयपुर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के इन्होंने कहा कि “पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से उन्हें कोई परेशानी नहीं हैं क्योंकि वह एक मंत्री हैं. अगर मैं अपना मंत्रिस्तरीय पद खो देता हूं तो मुझ पर बढ़ती तेल कीमतों का प्रभाव पड़ सकता है.”

उन्होंने कहा कि ” पेट्रोल और डीजल की कीमत क्या है, इससे क्या फर्क पड़ता है. सरकार मेरी गाड़ियों में डीजल और पेट्रोल भरवाती है. सरकारी पैसे पर पेट्रोल और डीजल जब आता है तो इस बारे में क्या सोचना.”  अब यहां एक सवाल पूछना ज़रूरी है क्योंकि जिस जनता ने रामदास अठावले को मंत्री बनाया है क्या उस जनता की महंगाई रूपी चोट पर नमक छिड़कने का काम ठीक है? बहरहाल आपको बता दें कि रामदास अठावले अक्सर अपने विवादस्पद बयानों को लेकर चर्चा का विषय बनें रहते हैं.

पहले बयान दिया फिर उसकी भरपाई करने के लिए नेता जी ने कहा कि सरकार तेल की कीमतों पर लगाम लगाने का प्रयास कर रही है. केन्द्रीय मंत्री ने साथ ही सभी राज्यों को भी नसीहत दी कि वे भी तेल की कीमतों को काबू करने में सरकार की मदद करें.

 

/* ]]> */