dharam Latest national

RTI कार्यकर्ता ने श्रीकृष्ण को लेकर पूछे ऐसे सवाल कि प्रशासन नही दे पा रहा जवाब

श्रीकृष्ण

अगर कोई आपसे ये पूछे कि भगवान कृष्ण की  जन्म स्थली मुथरा ही है इसका प्रमाणव  दो… या फिर कोई ये पूछे की भगवान कृष्ण की लीलाओं का प्रमाण दो तो आपके मन में क्या विचार उत्पन्न होंगे। जी हां कुछ ऐसे ही विचारों से छत्तीसगढ़ प्रशासन आज कल घिरा हुआ है।

दरअसल, छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जनपद के गुमा गांव निवासी आरटीआई कार्यकर्ता जैनेन्द्र कुमार गेंदले ने एक आरटीआई के तहत भगवान कृष्ण को लेकर कई तरह के सवाल पूछे हैं। जिससे जिला प्रशासन सकते में है।

श्रीकृष्ण

जिले के मुख्य जनसूचना अधिकारी और अपर जिलाधिकारी (एडीएम) (कानून एवं व्यवस्था) रमेश चंद्र का कहना है कि जनमान्यता और निजी आस्था से जुड़े इन सवालों के क्या जवाब दिए जाएं इसे लेकर फिलहाल असमंजस में हैं।

आपको बता दें कि आरटीआई कार्यकर्ता जैनेन्द्र कुमार गेंदले ने जनसूचना अधिकार अधिनियम 2005 के तहत 10 रुपए का पोस्टल ऑर्डर भेजकर जिला प्रशासन से पूछा है कि विगत 3 सितम्बर को देश भर में कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर अवकाश घोषित कर भगवान कृष्ण का जन्मदिन मनाया गया। इसलिए कृपया उन्हें भगवान श्रीकृष्ण के जन्म प्रमाणपत्र की प्रमाणित प्रतिलिपि उपलब्ध कराई जाए। जिससे यह सिद्ध हो सके कि उनका जन्म उसी दिन हुआ था।’

जैनेन्द्र कुमार गेंदले ने ये भी बताने को कहा गया है कि क्या वे सच में भगवान थे? और थे, तो कैसे? उनके भगवान होने की प्रमाणिकता भी उपलब्ध कराई जाए। भगवान कृष्ण का गांव कौन सा था? उन्होंने कहां-कहां लीलाएं कीं? इस सवालों पर रमेश चंद्र ने कहा कि हिंदू धर्म से जुड़े ग्रंथों में इस प्रकार के वर्णन मौजूद हैं कि भगवान कृष्ण का जन्म द्वापर युग में तत्कालीन शौरसेन (वर्तमान में मथुरा) जनपद में हुआ था। धार्मिक आस्था से जुड़े ऐसे सवालों के क्या जवाब दिए जाएं, इसपर विभाग अभी विचार कर रहा है।

/* ]]> */