Blogs Health & Fitness

क्या आपको है देर से सोने की आदत ?जीनियस होने की है ये निशानी

Insomnia

क्या आप रात को देर तक जागते हैं ?क्या आप रात को लेट सोते हैं ?क्या आप गाली वाले शब्दों का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं ? ऐसा बिलकुल हो सकता है की आपके इस तरह के  भाषा का प्रयोग करने से घर के अंदर और बाहर आपको लेकर क्रिटिसाइज़ किया जा रहा हो ? लेकिन हाल ही में हुए एक रिसर्च के मुताबिक़ इसके पीछे दरअसल बात कुछ और ही है। कहा जा रहा है की इस तरह के लोग काफी ऑनेस्ट और इंटेलीजेंट होते हैं।
हाल ही में हुए एक रिसर्च में ये बात सामने आयी है की इस तरह के लोग जो रात को देर में सोते हैं और अभद्र भाषा का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं वो अपनी ज़िंदगी थोड़ी अजीब तरीके से जीने में यकीन रखते हैं। अपने लाइफ में आर्गनाइज्ड नहीं होते।
अपने बातों या ओपिनियन को सामने रखने के लिए ये लोग कुछ ऐसे शब्दों का उपयोग करते हैं जो उचित नहीं या फिर शिष्टता के दायरे से बाहर है।

इस रिसर्च के मुताबिक़ ऐसे लोग जिनकी आईक्यू ज्यादा होती है वो रात में बहुत एक्टिव होते हैं और इस कारण देर तक जागते हैं। ये बताया गया है की जिन लोगों का आईक्यू 75  से कम होता है वो रात में तक़रीबन 11.40 तक जागते हैं वही जिनका आईक्यू 123 से भी ज्यादा है वो आधी रात के बाद यानी लगभग 12.30  तक सोने जाते हैं। इस रिसर्च ने ऐसे लोगों को स्मार्ट बताया है। ऐसे लोग हर सिचुएशन और चीज़ों में बाकियों से बेहतर होते हैं और समस्याओं का हल बेहतर निकाल पाते हैं। वैसे इस रिसर्च को लेकर सदी के महान साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन ने भी ये कहा था की जो बुद्धिमान होते हैं उसका सबूत उनका ज्ञान नहीं बल्कि दिमाग ने क्या विज़ुअलाइज़ किया वो है।

पॉजिटिव विजन
रिसर्च बताते हैं की हाइली इंटेलीजेंट लोग हर चीज़ को बहुत ही पॉजिटिव तरीके से देखते हैं। उनका नजरिया बहुत ही पॉजिटिव होता है। हर चीज़ में से वो सबसे बेस्ट निकालने की कोशिश करते हैं और अपनी गलतियों से सीखते भी हैं।

 

पॉजिटिव विजन
रिसर्च बताते हैं की हाइली इंटेलीजेंट लोग हर चीज़ को बहुत ही पॉजिटिव तरीके से देखते हैं। उनका नजरिया बहुत ही पॉजिटिव होता है। हर चीज़ में से वो सबसे बेस्ट निकालने की कोशिश करते हैं और अपनी गलतियों से सीखते भी हैं।
इस रिसर्च ने ये भी बताया है की ऐसे बुद्धिमान लोग बहुत नैतिक मूल्यों वाले होते हैं। इस बात पर मार्टिन लूथर किंग जूनियर ने भी कहा था की एजुकेशन से इंसान में आलोचना करने और बहुत ही डिटेल नजरिया होना चाहिए। मोरल वैल्यू के साथ बुद्धि का विकास ही पढ़ाई का मकसद होना चाहिए।

 

 

Bhagyashree

Infotainment Desk

/* ]]> */