Blogs Health & Fitness

जानें विटामिन डी की कमी आपके शरीर को कितना नुकसान पंहुचा सकती है?

‘विटामिन डी’ हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक विटामिन है। आपने कभी सोचा है की एक छोटे बच्चे को सुबह सुबह की धूप क्यों दिखाई जाती है, इसकी वजह भी विटामिन डी ही है और विटामिन डी का सीधा संबंध धूप से ही है। विटामिन डी धूप की किरणों में पाए जाना महत्वपूर्ण तत्व है। जैसे ही हमारी त्वचा धूप के संपर्क में आती है, शरीर में विटामिन डी बनना शुरू हो जाता है। विटामिन डी हमारे शरीर में कैल्शियम और फ़ास्फ़रोस जैसे महत्वपूर्ण तत्वों को सही मात्रा में बनाये रखने में मदद करता है। विटामिन डी हमारी हड्डियों के लिए भी बहुत ही लाभदायक है, शरीर में विटामिन डी की सही मात्रा मांसपेशियों और नसों को स्वस्थ रखता है। इससे हम ह्रदय रोग और हाई बीपी जैसे बीमारियों से बचे रह सकते हैं।

हाल ही में हुए एक शोध के अनुसार अधिकतर भारतीय महिलाओं में विटामिन डी जैसे महत्वपूर्ण तत्व की कमी पायी गई है। महिलाओं में विटामिन डी की कमी के ये कारण हो सकते हैं:

1. भारतीय महिलाएं ज़्यादातर घर के कामकाज में व्यस्त रहती हैं जिसके कारण उनका शरीर धूप के अधिक संपर्क में नहीं आ पाता और शरीर को विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा नहीं मिल पाती। 

2. महिलाओं में होने वाला हॉर्मोनल बदलाव। जैसे मेनोपोज़ के बाद ये दिक्क़त ज़्यादा देखने को मिलती है या फिर आमतौर पर बच्चे को दूध पिलाने वाली महिलाओं में ये समस्या देखी जा सकती है। 

एक्सपर्ट्स ने इस समस्या के बारे में बात करते हुए कहा कि ” खाने में अधिक मात्रा में रिफाइंड तेल का इस्तेमाल करने से शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है। रिफाइंड तेल के इस्तेमाल की वजह से शरीर में कोलेस्ट्रॉल कम बनता है वहीं एक्सपर्ट्स की मानें तो शरीर में विटामिन-डी बनाए रखने के लिए कोलेस्ट्रॉल का काफी योगदान होता है।”
रिफाइंड में ट्रांस फ़ैट ज़्यादा होता है। ट्रांस फ़ैट शरीर में अच्छे कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और बुरे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। इस वजह से दूसरी बीमारियों का भी ख़तरा बढ़ता है। इसलिए रिफाइंड का इस्तेमाल कम करने की कोशिश करनी चाहिए और धीरे-धीरे घी और सरसों के तेल पर निर्भरता बढ़ानी चाहिए।”

विटामिन डी की कमी कैसे दूर करें?

खाने के ज़रिए विटामिन- डी की कमी को दूर करना थोड़ा मुश्किल है। मगर हम अच्छे से अपने खान पान पर ध्यान दें तो विटामिन डी का संतुलन शरीर में बना रह सकता है। अंडे के पीले हिस्से में और कुछ ख़ास तरह की मछलियों में विटामिन-डी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा आपको बता दें कि विटामिन-डी की कमी को दूर करने का सबसे अच्छा उपाय है कि धूप में कम कपड़े पहनकर घूमें और विटामिन-डी का ओरल सप्लीमेंट लें। विटामिन-डी की कमी से निपटने में ओरल सप्लीमेंट बहुत फायदेमंद हैं। आठ हफ़्ते तक लगातार विटामिन-डी के ओरल सप्लीमेंट खाए जाएं तो ये फायदेमंद रहेगा। वहीं, एक घंटा रोज़ धूप में रहने से विटामिन-डी की कमी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। 

/* ]]> */