BJP Indian Politics Latest national Politics Politics

SC/ST एक्ट मामला: केन्द्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा आदेश ने पहुंचाई हानि

SC/ST एक्ट

SC/ST एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद देश हुईं हिंसक घटनाओं को ध्यान में रखते हुए केन्द्र सरकार की ओर से गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल किया गया। अपने जवाब में केन्द्र ने कोर्ट से कहा है कि कोर्ट के इस आदेश ने देश के सौहार्द को नुकसान पहुंचाया। साथ ही केन्द्र ने सुप्रीम कोर्ट से आदेश वापस लेने का अनुरोध भी किया है।

केन्द्र के अनुसार ये कानून के विपरीत है और इससे कानून हल्का हुआ है। इन दिशा निर्देशों से एक्ट के उन प्रावधानों पर असर पडा जो उसके दांत हैं। केन्द्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि अनुसूचित जाति – जनजाति कानून पर उसके फैसले ने इसके प्रावधानों को कमजोर किया है, जिससे देश को ‘बहुत नुकसान ’ पहुंचा है।

 

इसके साथ ही केंद्र सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में पेश सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि किसी जातिय उत्पीड़न के मामले में एफआईआर दर्ज करने से पहले डीएसपी द्वारा जांच करना एसएसी/एसटी एक्ट की मूल भावना के खिलाफ है। साथ ही यह कानून का उल्लंघन है।

सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश इस पर आधारित है कि कोर्ट कानून बना सकता है और उसके पास कानून बनाने का अधिकार है, लेकिन यह तभी किया जा सकता है जब उस मामले को लेकर पहले से कोई कानून उपलब्ध न हो। कोर्ट तभी कानून बना सकता है, जब उस संबंध में कोई कानून न हो। सुप्रीम कोर्ट का दिशानिर्देश अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम 1989 के खिलाफ है।

/* ]]> */