infotainment

नवरात्र के तीसरे दिन करें मां चंद्रघंटा की पूजा

नवरात्र के दूसरे दिन मां की पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा का रूप बहुत ही सौम्य है। मां चंद्रघंटा को सुगंधप्रिय है। उनके दस हाथ हैं और उनका वाहन सिंह है। 

मां चंद्रघंटा आसुरी शक्तियों से रक्षा करती हैं और मां चंद्रघंटा की आराधना करने वालों का अहंकार नष्ट होता है और उनको सौभाग्य, शांति और वैभव की प्राप्ति होती है।

मां चंद्रघंटा का मंत्र:  

पिण्डजप्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता।।

मां चंद्रघंटा को प्रसन्न करने के लिए क्या करें..

मां चंद्रघंटा को प्रसन्न करने के लिए भूरे रंग के कपड़े पहनने चाहिए। इसके साथ ही मां को सफदे चीज का भोग जैसे दूध या खीर का भोग लगाना चाहिए वहीं मां को  शहद का भोग भी लगाया जाता है।

/* ]]> */