Khabron se Hatkar

50 की उम्र मे बच्चों से लड़कर बसाया घर,कहा प्यार की नही होती कोई उम्र

प्यार

 

प्यार एक एहसास है जो ना ही कोई उम्र देखता है न ही लोगो की परवाह करता है. ऐसी ही एक कहानी सामने आई कोमोला की . जी हां…ये कहानी है कोमोला के प्‍यार की,  ये कहानी एक बांग्‍लादेशी फोटोग्राफर ने अपने फेसबुक पेज पर सुनाई है. फोटोग्राफर की पोस्‍ट के मुताबिक कोमोला महज 25 बरस की थी जब उसके पति का देहांत हो गया. कोई उसकी परवाह करने वाला नहीं था. वो पिछले 20 सालों से ब्रेड और अंडे बेचकर अपने बच्‍चों का पेट भर रही थी. काफी मेहनत के बाद आखिरकर उसकी आर्थिक स्थिति ठीक हुई और उसने एक रेस्‍टोरेंट खोल लिया. फिर जो आमदनी हुई उससे उसने गांव में घर बनाया और अपने बच्‍चों की शादी की.

 

My husband died and left me with my three children when I was 25 years old. I had to sell my only pair of gold bangles…

Posted by GMB Akash on Tuesday, April 3, 2018

कोमोला अपनी सारी जिम्‍मेदारी अच्छे से निभा रही थी, लेकिन अंदर से बिलकुल अकेली थी. लेकिन किस्‍मत  ने उनके लिए कुछ और ही सोचा था.  एक मजदूर उसके रेस्‍टोरेंट पर अकसर आया करता था. एक दिन वो कोमोला की ओर आकर्ष‍ित हो गया. फिर क्‍या था वो रोज़ उसे देखने रेस्‍टोरेंट आता, लेकिन उसने कभी एक शब्‍द नहीं कहा. यहां तक कि वो रेस्‍टोरेंट में उसके कामों में हाथ भी बंटाता. कभी बर्तन धोता तो कभी सफाई कर देता.  

 वो मजदूर हर तरह से कोमोला की मदद करता था. दोनों के बीच प्‍यार का आगज होने लगा. फिर एक दिन उसने कोमोला को शादी के लिए प्रपोज कर दिया. कोमोला खुश थी लेकिन उनहे समाज का डर सता रहा था. यही नहीं जब उसके बच्‍चों को इस बारे में पता चला तो उन्‍होंने उस मजदूर की खूब पिटाई की. फिर कोमोला ने उसको गॉव से जाने के लिए कह दिया.

कोमोला एक बार फिर अकेली हो गई.लेकिन वो कहते हैं न कि अगर प्‍यार सच्‍चा हो तो दूरियां भी नजदीकियो में बदल जाती हैं. उनके साथ भी यही हुआ. हालांकि कोमोला को लगता था कि बच्‍चों के हाथों मिली बेइज्‍जती के बाद वो फिर कभी नहीं लौटेगा. लेकिन एक दिन वो कोमोला के पास वापस आया और उसे फिर से शादी के लिए प्रपोज किया. दोनों पिछले पांच सालों से साथ में हैं और मिलकर छोटा सा रेस्‍टोरेंट चलाते हैं.  अब  कोमोला को समाज की कोई परवाह नही है.

/* ]]> */