Politics World

शांति वार्ता के लिए सिंगापुर पहुंचे दुनिया के सबसे बड़े दुश्मन, भविष्य तस्वीर होगी तय

सबसे ताकतवर देश के शासक डोनाल्ड ट्रम्प और छोटे से देश के तानाशाह किम जोंग शांति वार्ता के लिए सिंगापुर पहुंच चुके हैं। पूरी दुनिया की नज़रें इन दोनों की मुलाकात पर टिकी है। इन दोनों की मुलाकात से तय होगा कि दुनिया में शांति की शुरुआत होगी या युद्ध की आग में झुलसेगी।

12 जून को ऐतिहासिक मुलाकात

किसी सतारुढ़ अमेरिकी राष्ट्रपति की नॉर्थ कोरिया के शासक से ये मुलाकात होगी। 12 जून यानि मंगलवार को दोनों नेता सिंगापुर के सेंटोसा टापू के फाइव स्टार ‘कपेला’ होटल में 12 जून को मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात को वैश्विक राजनीति की एक ऐताहिसिक मुलाकात के तौर पर देखा जा रहा है। इन दोनों की सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जा चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक इनकी इस मुलाकात में करीब 50 करोड़ से भी अधिक खर्चा हुआ है।

परमाणु कार्यक्रम छोड़े किम- ट्रम्प

किम जोंग की उत्तर कोरिया से सिंगाुर तक की ये मुलाकात गोपनीय रखी गई। आखिर पल तक भी किसी को खबर नहीं थी कि किम किस विमान से सिंघापुर आ रहे हैं। डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है कि किम से मुलाकात करने के एक मिनट में ही पता चल जाएगा कि वो इस मुलाकात के सिए गंभीर है भी या नहीं। ट्रम्प ने कहा कि वो शांति मिशन की शुरुआत करने जा रहे हैं। अमेरिका से अघोषित सुरक्षा के बदले किम को परमाणु कार्यक्रम छोड़ने के लिए तैयार होना होगा। वहीं,  उत्तर कोरिया के एक सम्पादकीय लेख में लिखा गया है कि भले ही किसी देश से हमारे संबंध खराब रहे हों लेकिन हमारा मानना है कि अगर वह देश हमारी स्वतंत्रता की इज्जत करता है तो हम भी उनके साथ बातचीत के जरिए सामान्य रिश्ते बरकरार रखने में विश्वास रखते हैं।

एक अरब का खर्चा

आपको बता दें कि इन दोनों की मुलाकात की मेज़बानी सिंगापुर कर रहा है। दोनों की सुरक्षा पर 20 मिलियन सिंगापुर डॉलर यानि 100 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

/* ]]> */