BJP Congress Indian Politics Latest national Politics Politics State

कांग्रेस और पाटीदार में फूट, सियासी ड्रामा का बीजेपी को मिल सकता है फायदा

गुजरात में लंबे वक्त से पाटीदार और कांग्रेस के बीच समझौते की कोशिशे जारी है और हार्दिक के एक बयान से ऐसा लगा भी था कि वो कांग्रेस को अपना समर्थन दे देंगे लेकिन रविवार देर रात इन दोनों ही पार्टियों में फूट शुरू हो गई है और इन सब की वजह है कांग्रेस की ओर से जारी की गई उम्मीदवारों की पहली लिस्ट। लिस्ट में पाटीदार के केवल दो उम्मीदवारों को कांग्रेस ने टिकट दिया है, जिसके बाद पाटीदार कार्यकर्ताओं ने कई जगहों पर कांग्रेस का विरोध करना शुरू कर दिया है। पाटीदार अनामत आंदोलन समिति ने कांग्रेस पर कई आरोप लगाए है।

पाटीदार आंदोलन समिति के संयोजक दिनेश बामभनिया ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने भरोसे में लिए बिना टिकट बांटे हैं।

कांग्रेस की इस मनमानी पर राज्य में कांग्रेस का विरोध किया जाएगा। अगर ‘पास’ नेता चुनाव लड़ेंगे तो उनका भी विरोध होगा।

कांग्रेस ने सूरत से पाटीदार समुदाय के 4 नेताओं को टिकट दिया है, लेकिन ‘पास’ को एक भी नहीं मिला। उसने यहां से 6 टिकटों की मांग की थी।

कांग्रेस की पहली लिस्ट में पाटीदार के कुल 11 उम्मीदवारों को टिकट मिलने की उम्मीद थी, लेकिन कांग्रेस ने ऐसा नहीं किया।

गुजरात में कांग्रेस और पाटीदार की तरफ से समीकरण पल-पल बदल रहे है, दोनों ही पार्टियों की तरफ से कभी हां कभी ना वाली स्थिति बरकरार है, ऐसे बीजेपी का कहना है कि इन दोनों ही पार्टियों का सियासी ड्रामा जनता देख रही है जिसका सीधा फायदा बीजेपी को चुनावों में मिल सकता हैं।

/* ]]> */