Bollywood infotainment Latest Movie Review

बड़े परदे पर टकराई फिल्म सुई धागा और पटाखा-फिल्म रिव्यु

बॉक्स ऑफिस पर इस हफ्ते रिलीज़ हुई दो बहुत ही अलग फिल्में एक तरफ है अनुष्का वरुण की सुई धागा और दूसरी विशाल भरद्वाज की पटाखा।  दोनों ही फिल्में कई दिनों से दर्शकों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है। हो भी क्यों ना दोनों फिल्मों की कहानी ही इतनी रोचक है. एक तरफ है वो फिल्म जो इंडिया के स्कील वर्क को प्रोमोट कर रही हैं और दूसरी तरफ वो फिल्म जो दो बहनों कि रिश्ते के जरिए दो देशों के रिश्तो को व्यक्त कर रही है।
पटाखा फिल्म लेखक चरण सिंह पाठक की शॉर्ट स्टोरी दो बहनों कि कहानी पर बेस्ड हैं जिसमें दो बहनों की लड़ाई का सीधा संबंध भारत-पाकिस्तान कि लड़ाई से हैं. इस फिल्म में दो बहनों का किरदार राधिका मदन ओर सनाया मल्होत्रा द्वारा निभाया किया गया हैं जिनको काफी तारीफे भी मिल रही हैं और दोनों बहनों की लड़ाई से खुश होने वाले पड़ोसी का किरदार सुनिल ग्रोवर द्वारा निभाया गया हैं। फिल्म कि ये कहानी दर्शकों के समक्ष एक पोलिटिकल सेनारियो पेश कर रही हैं जिसमें भारत और पाकिस्तान को दो बहनों के तौर पर दिखाया गया है जिनकी लड़ाई से पडोसी देश काफी खुश होता हैं।

दूसरी तरफ ‘सूई धागा-मेड इन इंडिया की कहानी’  प्रधानमंत्री मोदी जी की कौशल विकास योजना को समर्पित है जिसके तहत ये बताया गया है कि कैसे एक छोटे तबके का आदमी अपने कौशल के जरिए अपना और अपने आस-पास के लोगों का विकास कर सकता हैं। फिल्म में वरूण धवन और अनुष्का शर्मा द्वारा निभाए गए किरदार नेशन बिल्डिंग थोट् ‘मैक इन इंडिया’ को भी प्रोमोट कर रहा है जिस थोट् से ये फिल्म इंस्पायर्ड हैं।
बात करें दोनों फिल्मों के तुलना की तो सूई धागा-मेड इन इंडिया कि कहानी लोगो को पसंद तो आ रही हैं पर वहीं दूसरी ओर कुछ लोगों को यह फिल्म बॉरिंग भी लग रही हैं पर क्रीटिक्स से शरद काटारिया को काफी तारीफें मिल रही है।
वहीं दूसरी ओर विशाल भरद्वाज की फिल्म पटाखा को दर्शकों और क्रीटिक्स दोनों से काफी तारीफें मिल रही हैं. लोगों को फिल्म के कॉनसेप्ट के साथ-साथ राधिका मदन और सनाया मल्होत्रा का किरदार बेहद पसंद आ रहा है जो कि लड़ाई में दो पहलवानों को भी पीछे छोड़ देती हैं वही दूसरी ओर एक-दूसरे को प्यार भी करती हैं लेकिन कभी वो प्यार जताती नही।
फाइनली जहां एक फिल्म दो देशों के बीच बिना वजह होती लड़ाईयों का विवरण करती हुई नजर आई और दूसरी फिल्म देश के मैक इन इंडिया योजना को। बस देखना अब यह हैं कि दर्शकों के दिल में कौन अपनी ज्यादा जगह बना पाती हैं।

/* ]]> */