Crime delhi ncr

बुराड़ी केस- परिवार के लोगों ने की थी अगले दिन के नाश्ते की तैयारी, नहीं होगी मौत…था पूरा विश्वास

बुराड़ी केस में अंधविश्वास का एंगल दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। ये हत्या है या आत्महत्या…लेकिन कहीं न कहीं अंधविश्वास का होना हावी हो रहा है। पुलिस को जब सदस्यों की मौत की सूचना मिली थी तो रसोई की जांच के दौरान इसे हत्या का मामला माना जा रहा था। क्योंकि घर की महिलाओं ने मौत से अगले दिन के नाश्ते की पूरी तैयारी की हुई थी।

नाश्ते की तैयारी

पुलिस ने जब रसोई में जांच की तो पाया कि महिलाओं ने अगले दिन के नाश्ते की तैयारी करते हुए छोले भिगाए हुए थे और दही भी जमाई हुई थी। पहले पुलिस इसे हत्या से जोड़कर देख रही थी मगर ललित से लिखावट की डायरी के बाद ये साफ हो गया कि परिवार को पूरा विश्वास था कि मोक्ष प्राप्ति के बाद उनकी मौत नहीं होगी।

इससे पहले खुलासा हुआ था कि घर का छोटा बेटा ललित भाटिया दावा करता था कि उसके अंदर मृत पिता की आत्मा आती थी और मोक्ष प्राप्ति के लिए मौत ही राह उसी ने बताई थी। ललित के मृत पिता ने कहा था कि पूजा अनुष्ठान करने के बाद बरगद की तरह लटक जाना, आसमान हिलेगा लेकिन तुम लोग डरना मत। छटपटाहट होगी इसीलिए अपने हाथ बांध लेना। भगवान किसी को मरने नहीं देते। मैं आकर तुम्हें बचा लूंगा।

/* ]]> */