delhi ncr Latest national

दिल्ली में छाया धूल का कोहरा -जाने कैसे रखें खुद को सुरक्षित?

Dust storm in Delhi
Dust storm in Delhi. Ncr

देश की राजधानी दिल्ली व एनसीआर समेत उत्तर भारत के राज्यों को धूल की चादर ने अपने चपेट में ले रखा है। पिछले २० सालो में ऐसा नुकसान हमारे वातावरण को कभी नहीं हुआ जो अब शुरू हो चुका है। पश्चिम राजस्थान के रेगिस्तान से उड़ती हुई ये धूल भरी आंधी ने पुरे दिल्ली और एनसीआर को ढक दिया है। लगातार बढ़ रहे प्रदूषण ने और इसे बढ़ावा दे दिया है। धूल भरी आंधी ने रास्तों की विजिबिलिटी काम कर दी है। यह तक की दिन के वक़्त सूरज की रौशनी भी लोगों तक ठीक से नहीं पहुंच पा रही। धूल के साथ चल रहे तेज़ हवाओं ने लोगो का रास्तों पर चलना मुश्किल कर दिया है। इस धूल भरी आंधी से लोगो को कफ ,एलेर्जी ,फेफड़ों के इन्फेक्शन यहां तक की दिल की बिमारी होने का भी खतरा है। लोगों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है क्युंकि सांस से धूल भी इन्हेल हो रही है। इस तरह के धूल से डस्ट निमोनिया होने के भी आसार है। साथ ही ये आपके आँखों को काफी नुकसान पंहुचा सकते हैं।
शाम होते होते धूल और बढ़ने लगती है और दिन में ही अँधेरा छाने लगता है। राजस्थान से आ रही इस धूल ने दिल्ली एनसीआर के प्रदुषण को बढ़ा दिया है हालाँकि राजस्थान इससे कम प्रभावित है। दिल्ली में ये धूल की चादर तक़रीबन ७ हज़ार से १५ हज़ार फीट की ऊंचाई तक है। दरअसल ये धूल वाली आंधी गर्म और सूखे क्लाइमेट में काफी आम है मगर तेज़ हवाओं के साथ ये जानलेवा हो जाती हैं।

 

Dust storm

आइये जानते हैं कैसे रखें खुद को इस धूल भरे तूफान से सुरक्षित–

1 ) इस धूल भरी आंधी से आप घर के अंदर भी बच नहीं सकते. कोशिश करें जितना हो घर के अंदर रहे बहुत ज़रूरी हो तभी बाहर निकलें।
2 ) एयर प्यूरीफायर का इस्तेमाल घर के इंडोर के लिए करे ताकि आप सांस ले पाए।
3 ) अगर बाहर निकलना पड़े तो प्रदूषण वाले मास्क ज़रूर पहने जो एन 95 सर्टिफाइड हो क्यूंकि वही आपको सेफ रख पाएंगे।
4 ) खाने पिने में विटामिन सी की मात्रा बढ़ाए जो आपको इस धूल से बचाए रखने में मदद करेगी जैसे हरे पत्तेदार सब्जियां ,बादाम ,गाजर।
5 ) घर के अंदर मोमबत्ती या किसी तरह का धुँआ ना करें।
6 ) मास्क के साथ पानी का सेवन भी ज्यादा से ज्यादा करें साथ ही अपनी नाक के अंदर जेली लगाके उसे सूखने से रोकें।
7 ) आँखों को धूल से बचाने के लिए धूप वाले चश्मे का उपयोग करें। ऑंखें सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं और काफी नाज़ुक होते हैं ।
8 ) अपने शरीर के सभी हिस्सों को अच्छी तरह से ढक कर निकलें और घर के अंदर लौटने के बाद साफ़ पानी से आँखों और शरीर को धोयें।

/* ]]> */