delhi ncr Latest national

दिल्ली एनसीआर में धूल की आंधी हुई खतरनाक !

dust storm in delhi ncr
Delhi Ncr faces dust storm from rajasthan

पश्चिम राज्यों ख़ास तौर से राजस्थान के रेगिस्तान से धूल भरी आंधी तूफ़ान ने देश की राजधानी दिल्ली एनसीआर में लोगों का सांस लेना मुश्किल कर दिया है। न सिर्फ दिल्ली एनसीआर बल्कि पश्चिमी उतर प्रदेश के भी कई इलाके और ज़िले इसके चपेट में आ चुके हैं। धूल भरी आंधी ने पुरे आसमान में एक परत सी बना दी है जिससे विजिबिलिटी ना के बराबर हो गई है। आम जनजीवन के लिए ये माहौल दम घुटने जैसा बन गया है। प्रदुषण रोकने के सभी उपाय फेल होते नज़र आ रहे हैं। दिल्ली के आबोहवा के प्रदुषण लेवल की बात करें तो पीएम 10 कणों की बढ़ोतरी देखी गई। आज भी दिल्ली के लोधी रोड इलाके में हवा काफी ख़राब स्तर पर आँका गया। दिल्ली के साथ साथ उत्तर प्रदेश में भी इस धूल वाली आंधी ने अपना कहर ढाया हुआ है। मौसम वैज्ञानिको ने अगले दो दिन तक मौसम के ऐसे ही बने रहने का अनुमान लगाया है। गुरूवार यानि 14 जून की सुबह पीएम 2.5 का स्तर 83 तो वही पीएम 10 का स्तर 262 पर दर्ज किया गया। दूसरी तरफ पीएम 10 का स्तर अभी  भी काफी ख़राब पर बना हुआ है। अगर पीएम 10 का स्तर 200 पार कर लेता है तो हवा आम जनजीवन के लिए ये खतरनाक साबित हो सकता है। दिल्ली एनसीआर के कुछ इलाको में तो स्तर और भी ख़राब बताया जा रहा है। दिल्ली में पीएम १० का स्तर 824 पर था जिसके वजह से विजिबिलिटी काफी कम है।

pollution level
Dangerous pollution level in Delhi  NCR

धूल आंधी ने मचाया हाहाकार

पिछले दिन आयी धूल वाली आंधी ने उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में अपना कहर बरपाते हुए १० लोगों की जीवन लीला समाप्त कर दी। मृत सभी लोग गोंडा ,फैज़ाबाद और सीतापुर के बताये गए। इस आंधी से राहत मिलने के दो ही उपाय है एक तो ये आंधी बन दूर तक उड़ जाये या फिर बारिश होने से ये शांत हो जाएगी।   विशेषज्ञों की माने तो हवा में फैले धूल के कण से लोगों को घुटन महसूस होगी। उम्रदराज़ लोग और बीमार चल रहे लोगों के लिए ये हवा काफी जानलेवा हो सकती है। इस धूल वाली आंधी के कारण धरती पर एक परत सी जम रही है जिससे धरती गर्म होने लगी है और रात का तापमान भी इसी वजह से गर्म रहेगा।  दिन के वक़्त गर्मी का अहसास भी लोगों को ज़्यादा होगा । देखते है की आखिर दिल्ली एनसीआर के प्रदुषण समस्या के लिए क्या उपाय किये जा सकते है और कुदरत  कब तक अपना कहर ढ़ाएगी ।

 

/* ]]> */