delhi ncr

राजधानी में इतने बच्चों की मौत दर्शाता है प्रशासन को जनता की कितनी फिक्र है

देश की राजधानी दिल्ली में 12 बच्चों की मौत ने पूरे प्रशासन को हिला कर रख दिया है. जी हां दिल्ली में पिछले दो हफ्तों में किंग्सवे कैम्प स्थित महर्षि वाल्मीकि संक्रामक अस्पताल (MCD) में करीब 12 बच्चों की मौत हो चुकी है. जानकारी के मुताबिक बच्चों की मौत डिप्थीरिया नामक संक्रामक रोग की वजह से हुई है. वहीं मृतक बच्चों के परिजनों ने अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि इतने बड़े अस्पताल में डिप्थीरिया के लिए वैक्सीन तक मौजूद नहीं है. जबकि प्रशासन स्टॉक में दवा नहीं होने की बात कह कर मामले से पल्ला झाड़ रहा है.

अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक सुनील कुमार गुप्ता ने कहा कि वैक्सीन मंगवाई गई है जो सितंबर के आखिर तक मिल जाएगी. उन्होंने कहा कि परिजन बच्चों को ऐसी स्थिति में लेकर आते हैं जब उनको बचाना भी मुश्किल हो जाता है. मृतक बच्चों के परिवार वाले दिल्ली से बाहर के रहने वाले हैं और अलग-अलग राज्यों से रैफर होकर यहां आए हैं.

बताया जा रहा है कि इस वैक्सीन की कीमत बाजार में करीब 10 हजार रुपए तक है जिस कारण परिजनों के लिए इसे खरीद पाना आसान नहीं है. आपको बता दें कि MCD में डिप्थीरिया से पीड़ित करीब 300 बच्चे भर्ती हैं. वहीं लोग अब अपने बच्चों को दूसरे अस्पतालों में लेकर जा रहे हैं.

अब गौर करने वाली बात ये है कि राजधानी दिल्ली के अस्पतालों में भी ऐसे लापरवाही बरती जाएगी, तो दूसरे राज्यों का हाल क्या होगा?

/* ]]> */