national

क्या अंबानी परिवार पर मेहरबान है मोदी सरकार? JIO INSTITUTE

उत्कृष्ट jio institute

JIO INSTITUTE

मोदी सरकार में मंत्री हैं प्रकाश जावड़ेकर जिन्होंने बीते दिन मीडिया के सामने आकर ऐसी जानकारी दी, जिसके बाद हलचल तेज हो गई. हलचल तेज होना लाजमी भी था, क्योंकि जिस देश में विपक्ष कमजोर हो तो वहां विपक्ष बस इसी इंतजार में बैठा रहता है कि कब सरकार कोई कुछ ऐसा करे कि उनको सामने आने का मौका मिले.

प्रकाश जावड़ेकर मानव संसाधन विकास मंत्री हैं. और उन्होंने सोमवार को 6 विश्वविद्यालयों को उत्कृष्ट संस्थान यानी सरकार की तरफ से इन विश्वविद्यालयों को सहायता दी जाएगी, लेकिन ये तो अच्छी बात है इसमें खराबी क्या है?  इससे तो विश्वविद्यालयों को गुणवत्ता बढ़ेगी, लेकिन दिक्कत ये है कि सरकार ने जिन विश्वविद्यालयों को उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दिया है उनमें एक जियो इंस्टीट्यूट भी है, जो फिलहाल अभी हकीकत में है ही नहीं.

सरकार का पक्ष

लेकिन सवाल उठता है कि आखिर जियो इंस्टीट्यूट को ही ये दर्जा क्यों दिया गया? ऐसे में ईसीसी के मुताबिक ग्रीनफील्ड कैटेगिरी में उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा पाने के लिए 11 आवेदन आए थे, क्योंकि सिर्फ जियो ने ही जरूरी चार मानकों को पूरा किया. इसी वजह से जियो का नाम उत्कृष्ट संस्थान की लिस्ट में शामिल हुआ.

ये हैं वो चार मानक

1- संस्थान के निर्माण के लिए जमीन होना

2- उच्च योग्यता और अनुभव वाली टीम

3- संस्थान के लिए पर्याप्त फंड होना

4- स्पष्ट रणनीति और कार्य की योजना

हालांकि की सरकार की तरफ से साफ कर दिया गया है कि उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा मिलने के बाद प्राइवेट संस्थान पहले से मजबूत स्वायत्तता के पात्र होंगे लेकिन उन्हें कोई फंड नहीं दिया जाएगा.

 इन 6 संस्थाओं को दिया गया दर्जा

तीन पब्लिक संस्थान में आईआईटी दिल्ली, आईआईटी बंबई, आईआईएससी बेंगलोर, और तीन प्राइवेट कैटेगरी में  मनिपाल एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन, बिट्स पिलानी और जियो इंस्टीट्यूट शामिल हैं. 

अपनी ही सरकार के खिलाफ हुए बीजेपी नेता

इस फैसले के बाद बीजेपी के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा ने केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला, उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘क्या अंबानी भगवान हैं?’

यशवंत सिन्हा ने एक ट्वीट में कहा कि ‘जियो इंस्टीट्यू की अभी स्थापना नहीं हुई है. उसका अस्तित्व नहीं है. फिर भी सरकार ने उसे एमिनेंट टैग दे दिया. ये मुकेश अंबानी होने का महत्व है.’

कांग्रेस ने उठाए सवाल

कांग्रेस ने आपत्ति जाहिर करते हुए कहा कि जियो इंस्टीट्यूट अब तक बना ही नहीं है तो सरकार कैसे उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दे सकती है? कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से #SuitBootSarkar के साथ ट्वीट कर मोदी सरकार पर निशाना साधा.

पार्टी ने कहा, ”बीजेपी की सरकार ने एक बार फिर मुकेश अंबानी और नीता अंबानी को फायदा पहुंचाया. जियो इंस्टीट्यूट जो अस्तित्व में ही नहीं है उसे इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस का दर्जा दिया गया. सरकार को सफाई देनी चाहिए कि इस तरह के स्टेट्स देने का क्या पैमाना है.

बहरहाल अभी जियो इंस्टीट्यूट जमीन पर नहीं है. लेकिन आने वाले दिनों में ये देखना दिलचस्प होगा कि सरकार के इस फैसले पर किस तरह की प्रतिक्रया आती हैं. क्योंकि आरोप ये लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने उद्योगपति दोस्त को फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा किया है.

/* ]]> */