infotainment social media

शादी की सालगिरह पर शुरू किया गया ये काम, हल्द्वानी के इस शिक्षक को दूसरों से अलग बनाता है

शादी की सालगिराह पर अपनी बीवी को तोहफा तो सब देते हैं, लेकिन उत्तराखंड के एक शिक्षक ने अपनी सालगिराह पर जो काम किया वो न सिर्फ तारीफ के काबिल है बल्कि उनकी पहल को दूसरों तक  पहुंचाया जाना चाहिए. बच्चों का भविष्य बनाने वाले ये शिक्षक हैं विपिन पांडे. दरअसल विपिन चंद्रा ने अपनी 25वीं सालगिराह पर एक ऐसी पहल की जिससे गरीब बच्चे बिना परेशानी के पढ़ सकें. जी हां विपिन पांडे हल्दवानी में एक बुक बैंक चलाते हैं जहां गरीब और आर्थिक रुप से कमजोर बच्चे किताबे लेकर अपनी पढ़ाई कर सकते हैं.

विपिन चंद्रा बताते हैं कि शुरुआत में कुछ ही किताबें थी लेकिन धीरे-धीरे लोगों का सहयोग मिलता गया और अब तक उनके बुक बैंक ने 800 से ज्यादा किताबे छात्रों को उपलब्ध कराई हैं. जानकारी के मुताबिक कक्षा 9 से 12वीं तक के छात्र बुक बैंक से पढ़ाई करते हैं. इतना ही नहीं ये लाभकारी पहल कई बच्चों के लिए उपयोगी साबित हो रही है.

आपको बता दें कि विपिन चंद्रा ने एचएन इंटर कॉलेज से ही अपनी पढ़ाई की है और उसी स्कूल में शिक्षक के तौर पर तैनात हैं. चंद्रा कहते हैं कि इस बुक बैंक को शुरु हुए दो साल बीत चुके हैं और अब यहां छात्रों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. ज़रूरत है तो कुछ मदद के हाथों की जो इस तरह की पहल को आगे बढ़ाया और जरूरतमंदों की मदद करें.

जानकारी हो कि बुक बैंक का कॉन्सेप्ट भारत में नया नहीं है. इससे पहले 1991 में श्री सुमती विशाल एजुकेशनल ट्रस्टने चेन्नई में बुक बैंक बनाया था जो वहां इंजीनियरिंग समेत कई विषयों की पढ़ाई के बच्चों को किताबें मुहैया कराता आ रहा है. 

/* ]]> */