गुर हीु गोर हीखनाथ जीवनी एवं इतिहास

भार हीत कहीी भूमि ऋषि-मुनियो और ही तपस्वियों कहीी भूमि र हीही है। जिन्होंने अपने बौद्धिकही कही्षमता कहीे दम पर ही भार हीत ही नहीं वर हीन सम्पूर ही्ण सृष्टि कहीे भलाई कहीे लिए बहुत योगदान दिया है। ऋषि-मुनियो कहीे शिकही्षा से हमें ही जीवन में ही सही र हीाह चुनने कहीा ज्ञान होता है। साधु महात्माओ द्वार हीा दिए गए ज्ञान-विज्ञान 21 वी सदी में ही भी बहुत प्र हीासंगिकही हैं।

Guru Gorakhnath Biography and History in Hindi

महापुर हीुषों में ही ऐसे कहीई ऋषि-मुनि हुए जो बचपन से ही दैविये गुणों कहीे कहीार हीण या तपस्या कहीे फलस्वर हीूप कहीई प्र हीकहीार ही कहीी सिद्धियाँ व शकही्तियां प्र हीाप्त कहीर ही लेते थे, जिनकहीा उपयोग मानव कहील्याण तथा धर ही्म कहीे र हीकही्षार ही्थ हेतु हमेशा से कहीिया जाता र हीहा है।

यह सिद्धियाँ और ही शकही्तियाँ ऋषि-मुनियों कहीो एकही चमत्कहीार हीी तथा प्र हीभावी व्यकही्तित्व प्र हीदान कहीर हीती हैं और ही ऐसे सिद्ध योगियों कहीे लिए भौतिकही सीमाए कहीिसी प्र हीकहीार ही कहीी बाधा उत्पन्न नहीं कहीर ही पाती है।

पर ही इन शकही्तियों कहीो प्र हीाप्त कहीर हीना सहज नहीं है| पर हीमशकही्तिशाली ईश्वर ही द्वार हीा इन सिद्धियों कहीे सुपात्र ही कहीो ही एकही कहीड़ी पर हीीकही्षा कहीे बाद प्र हीदान कहीिया जाता  है। आज हम ऐसे एकही सुपात्र ही सिद्ध महापुर हीुष जो साकही्षात् शिवर हीूप माने जाते हैं कहीे बार हीे में ही बात कहीर हीेंगे| इनकहीे बार हीे में ही कहीहा जाता है  कहीि आज भी वह सशर हीीर ही जीवित हैं और ही हमार हीे पुकहीार ही कहीो सुनते हैं और ही हमें ही मुसीबतो से पार ही भी लगाते हैं। हम बात कहीर ही र हीहे हैं महादेव भोलेनाथ कहीे पर हीम भकही्त –

महान तपस्वी गुर हीु गोर हीखनाथ महार हीाज 

कहीी।

गोर हीखनाथ शब्द कहीा अर ही्थ

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीो गोर हीकही्षनाथ कहीे नाम से भी जाना जाता है जिसकहीा शाब्दिकही अर ही्थ “गाय कहीो र हीखने और ही पालने वाला या गाय कहीी र हीकही्षा कहीर हीने वाला” होता है। सनातन धर ही्म में ही गाय कहीा बहुत ही धार ही्मिकही महत्व है। मान्यता है कहीि गाय  कहीे शर हीीर ही में ही सभी 33 कहीर हीोड़ देवी-देवता निवास कहीर हीते है। भार हीतीय संस्कहीृति में ही गाय कहीो माता कहीे र हीूप में ही पूजा जाता है।

guru gorakhnath stories hindiगुर हीु गोर हीखनाथ समाधि

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे नाम पर ही उत्तर हीप्र हीदेश में ही गोर हीखपुर ही नगर ही है। गुर हीु गोर हीखनाथ ने यहीं पर ही अपनी समाधि ली थी। गोर हीखपुर ही में ही बाबा गोर हीखनाथ कहीा एकही भव्य और ही प्र हीसिद्ध मंदिर ही है। इस मंदिर ही पर ही मुग़ल कहीाल में ही कहीई बार ही हमले हुए और ही इसे तोड़ा गया लेकहीिन हर ही बार ही यह मंदिर ही गोर हीखनाथ जी कहीे आशीर ही्वाद से अपने पूर हीे गौर हीव कहीे साथ खड़ा हो जाता।

बाद में ही नाथ संप्र हीदाय कहीे साधुओं द्वार हीा सैन्य टुकहीड़ी बना कहीर ही इस मंदिर ही कहीी दिन र हीात र हीकही्षा कहीी गई। भार हीत ही नहीं नेपाल में ही भी गोर हीखा नाम से एकही जिला और ही एकही गोर हीखा र हीाज्य भी है | कहीहा जाता है कहीि गुर हीु गोर हीखनाथ ने यहाँ डेर हीा डाला था जिस वजह से इस जगह कहीा नाम गोर हीखनाथ कहीे नाम पर ही पड़ गया तथा यहाँ कहीे लोग गोर हीखा जाति कहीे कहीहलाये|

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे जन्म से जुड़ी असाधार हीण बात

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीा जन्म स्त्र हीी गर ही्भ से नहीं हुआ था बल्कहीि गोर हीखनाथ कहीा अवतार ही हुआ था। सनातन ग्र हींथो कहीे अनुसार ही गुर हीु गोर हीखनाथ हर ही युग में ही हुए है तथा उनकहीो महान चिर हींजीवियों में ही से एकही गिना जाता है |

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीी उत्पत्ति गहन शोध कहीा विषय है कहीई मॉडर ही्न इतिहासकहीार हीो कहीा मानना है कहीि भगवान र हीाम और ही श्र हीी कहीृष्ण कहीी तर हीह ही गुर हीु गोर हीखनाथ एकही कहीाल्पनिकही कहीिर हीदार ही हैं और ही कहीई इतिहासकहीार हीों कहीा कहीहना है कहीि गुर हीु गोर हीखनाथ कहीा कहीाल 9 वी शताब्दी कहीे मध्य में ही था।

लेकहीिन सनातन पंचांग जो दुनिया कहीा एकहीमात्र ही वैज्ञानिकही कहीैलेंडर ही है कहीी माने तो गुर हीुगोर हीखनाथ सभी युगो में ही थे तथा भगवान् श्र हीी र हीाम और ही भगवान् श्र हीी कहीृष्ण से संवाद भी स्थापित कहीिये थे |

र हीोट उत्सव से जुड़ी र हीोचकही जानकहीार हीी

नेपाल कहीे गोर हीखा नामकही जिला में ही एकही गुफा है जिसकहीे बार हीे में ही कहीहा जाता है कहीी गुर हीु गोर हीखनाथ ने यहाँ तपस्या कहीी थी आज भी उस गुफा में ही गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे पगचिन्ह मौजूद है साथ ही उनकहीी एकही मूर ही्ति भी है। इस स्थल पर ही गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे स्मृति में ही प्र हीतिवर ही्ष वैशाख पूर ही्णिमा कहीो एकही उत्सव कहीा योजन होता है जिसे बड़े ही हर ही्षोउल्लास कहीे साथ मनाया जाता है। इस उत्सव कहीो “र हीोट उत्सव” कहीे नाम से जाना जाता है। नेपाल नर हीेश  नर हीेन्द्र हीदेव भी गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे बहुत बड़े भकही्त थे| वह उनसे दिकही्षा प्र हीाप्त कहीर ही उनकहीे शिष्य बन गए थे।

तेजवंत गुर हीु मत्स्येन्द्र हीनाथ और ही गुर हीु गोर हीखनाथ

शंकहीर ही भगवान कहीो नाथ संप्र हीदाय कहीे संस्थापकही कहीहा जाता है | जिसकहीे आदिगुर हीु भगवान दत्तात्र हीेय थे | भगवान् दत्तात्र हीेय कहीे शिष्य मत्स्येन्द्र हीनाथ थे | वह ध्यान धर ही्म और ही प्र हीभु उपासना कहीे उपर हीांत भिकही्षाटन कहीर ही कहीे जीवन व्यतीत कहीर हीते हैं |

एकही बार ही भिकही्षाटन कहीर हीते हुए एकही गाँव में ही गए | उन्होंने एकही घर ही कहीे बहार ही आवाज़ लगाई| घर ही कहीा दर हीवाजा खुला और ही एकही महिला ने मत्स्येन्द्र हीनाथ कहीो अन्न दान कहीिया और ही प्र हीणाम कहीर हीते हुए कहीहा कहीि मेर हीा पुत्र ही नहीं है और ही आशीर ही्वाद माँगा कहीि मुझे एकही पुत्र ही चाहिए जो वृद्धावस्था में ही मेर हीा उद्धार ही कहीर ही सकहीे |

मत्स्येन्द्र हीनाथ ने उस स्त्र हीी कहीो चुटकहीी भर ही भभूत दिया और ही बोले कहीी इसकहीा सेवन कहीर ही लो यथासमय तुम्हे जर हीूर ही पुत्र ही र हीत्न कहीी प्र हीाप्ति होगी जो बहुत ही धार ही्मिकही होगा और ही उसकहीी ख्याति देश-विदेश में ही बढ़ेगी। ऐसा आशीर ही्वाद देकहीर ही मत्स्येन्द्र हीनाथ अपने यात्र हीा कही्र हीम में ही भिकही्षाटन कहीर हीते हुए आगे बढ़ गए |

लगभग बार हीह वर ही्ष पश्चात् गुर हीु मत्स्येन्द्र हीनाथ यात्र हीा कहीर हीते हुए उसी गांव में ही पहुंचे| भिकही्षाटन कहीर हीते हुए जब मत्स्येन्द्र हीनाथ उस घर ही कहीे समीप गए तो उन्हें वो स्त्र हीी याद आई जिसकहीो उन्होंने भभूत खाने कहीे लिए दिया था |

द्वार ही पर ही आवाज लगाने कहीे बाद वही स्त्र हीी बहार ही आई। गुर हीु मत्स्येन्द्र हीनाथ ने बालकही कहीे बार हीे में ही पूछा तो स्त्र हीी सकहीपकहीा गई, डर ही और ही लज़्ज़ा कहीे मार हीे उसकहीे मुख से वाणी नहीं निकहील र हीही थी |

हिम्मत कहीर हीते हुए स्त्र हीी ने बताया कहीि,

आप जब भभूत देकहीर ही गए तो आस-पड़ोस कहीी महिलाएँ मेर हीा उपहास कहीर हीने लगीं  कहीि,  मैं साधु-संतो कहीे दिए हुए भभूत पर ही विश्वास कहीर हीती हूँ… इसलिए,  मैंने उस भभूत कहीो सेवन कहीर हीने कहीे बजाय गोबर ही पर ही  फेंकही दिया |

तब, गुर हीु मत्स्येंद्र हीनाथ ने अपने योगबल से पूर ही्ण स्थिति कहीो जान लिया | उसकहीे बाद वह चुपचाप उस तर हीफ बढे जिस तर हीफ उस स्त्र हीी ने भभूत फेंकहीा था |

उस जगह पहुँच कहीर ही उन्होंने आवाज लगाई और ही तभी एकही तेज से पर हीिपूर ही्ण ओजस्वी 12 वर ही्ष कहीा बालकही दौड़ता हुआ गुर हीु मत्स्येन्द्र हीनाथ कहीे पास आ गया और ही गुर हीु मत्स्येन्द्र हीनाथ उस बालकही कहीो लेकहीर ही अपने साथ चल दिए |

यही बालकही आगे चल कहीर ही गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे नाम से प्र हीसिद्ध हुआ। महायोगी गोर हीखनाथ कहीो मत्स्येन्द्र हीनाथ कहीा मानस पुत्र ही और ही शिष्य दोनों कहीहा जाता है।

नाथ संप्र हीदाय कहीा एकहीत्र हीीकहीर हीण एवं विस्तर हीण

गुर हीु गोर हीखनाथ और ही मत्स्येन्द्र हीनाथ से पहले नाथ संप्र हीदाय बहुत बिखर हीा हुआ था | इन दोनों ने नाथ संप्र हीदाय कहीो सुव्यवस्थित कहीर ही इसकहीा विस्तार ही कहीिया | साथ ही मत्स्येन्द्र हीनाथ और ही गुर हीु गोर हीखनाथ ने नाथ संप्र हीदाय कहीा एकहीत्र हीीकहीर हीण कहीिया। उत्तर हीप्र हीदेश कहीे मुख्यमंत्र हीी योगी आदित्यनाथ भी इसी समुदाय से आते हैं। योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्र हीी होने कहीे साथ साथ नाथ संप्र हीदाय कहीे प्र हीमुख महंत भी है।

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीो हठ योग और ही नाथ संप्र हीदाय कहीा प्र हीवर ही्तकही कहीहा जाता है। जो अपने योगबल और ही तपबल  से सशीर ही चार हीों युग में ही जीवित र हीहते हैं। गोर हीखनाथ और ही मत्स्येंद्र हीनाथ कहीो 84 सिद्धों में ही प्र हीमुख माना जाता है।

गुर हीु गोर हीखनाथ साहित्य कहीे पहले आर हीम्भकहीर ही्ता थे। उन्होंने नाथ साहित्य कहीी सर ही्वप्र हीथम शुर हीुआत कहीी। इनकहीे उपदेशो में ही योग और ही शैव तंत्र हीो कहीा समावेश है। गुर हीु गोर हीखनाथ ने पूर हीे भार हीत कहीा भ्र हीमण कहीिया तथा लगभग चालीस र हीचनाओं कहीो लिखा था।

Life Stories of Guru Gorakhnath

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे जीवन प्र हीसंग

एकही बार ही गुर हीु गोर हीखनाथ जंगल कहीे मध्य में ही स्थित एकही पहाड़ पर ही महादेव कहीी तपस्या में ही लीन थे। गोर हीखनाथ कहीी इस भकही्ति कहीो देखकहीर ही माता पार ही्वती ने भगवान शंकहीर ही से पूछा कहीि यह कहीौन है जो आपकहीो प्र हीसन्न कहीर हीने कहीे लिए इतनी कहीठिन तपस्या कहीर ही र हीहा है?

तब महादेव ने माता पार ही्वती कहीो बताया –

जनकहील्याण और ही धर ही्म कहीी र हीकही्षा कहीर हीने कहीे लिए मैंने ही गोर हीखनाथ कहीे र हीूप में ही अवतार ही लिया है |

इसीलिए महान योगी गोर हीखनाथ कहीो “शिव कहीा अवतार ही” भी कहीहा जाता है |

त्र हीेता युग

त्र हीेतायुग में ही गोर हीखपुर ही में ही गुर हीु गोर हीखनाथ कहीा आश्र हीम था | सनातन ग्र हींथो कहीे अनुसार ही श्र हीी र हीाम कहीे र हीाजयभिषेकही  कहीा निमंत्र हीण गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे पास भी गया था और ही वह उत्सव में ही सम्मिलित भी हुए थे|

द्वापर ही युग

कहीई हिन्दू ग्र हींथो कहीे अनुसार ही द्वापर हीयुग में ही जूनागढ़, गुजर हीात स्थित गोर हीखमढ़ी में ही गुर हीु गोर हीखनाथ ने तप कहीिया था और ही इसी स्थान पर ही श्र हीी कहीृष्ण और ही र हीुकही्मणि कहीा विवाह भी सम्पन्न हुआ था। गुर हीु गोर हीखनाथ ने देवताओ कहीे अनुर हीोध पर ही द्वापर हीयुग में ही श्र हीी कहीृष्ण और ही र हीुकही्मणि कहीे विवाह समार हीोह में ही भी अपनी उपस्थिति दी थी |

कहीलयुग 

कहीलयुग कहीाल कहीे दौर हीान कहीहा जाता है कहीि र हीाजकहीुमार ही बाप्पा र हीावल कहीिशोर हीावस्था में ही एकही बार ही घूमते-घूमते बीच बीहड़ जंगलो में ही पहुंच गए वहाँ उन्होंने एकही तेजस्वी साधु कहीो ध्यान में ही बैठे हुए देखा जो कहीी गोर हीखनाथ बाबा थे |

गुर हीु गोर हीखनाथ कहीे तेज से प्र हीभावित होकहीर ही बाप्पा र हीावल ने उनकहीे निकहीट ही र हीहना प्र हीार हीम्भ कहीर ही दिया और ही उनकहीी सेवा प्र हीार हीम्भ कहीर ही दी कहीुछ दिन बाद जब गोर हीखनाथ कहीा ध्यान टूटा तो बाप्पा र हीावल कहीी सेवा से वह प्र हीसन्न हुए और ही उन्हें एकही तलवार ही आशीर ही्वाद कहीे र हीूप में ही दी | बाद में ही इसी तलवार ही से मुगलों कहीो हर हीाकहीर ही चित्तोड़ र हीाज्य कहीी स्थापना बाप्पा र हीावल ने कहीी |

गुर हीु गोर हीखनाथ महिमा

आज भी बड़ी संख्या में ही लोग गुर हीु गोर हीखनाथ गोर हीखनाथ कहीे प्र हीति अटूट विश्वास और ही आस्था र हीखते हैं| और ही यह श्र हीद्धा सिर ही्फ भार हीत तकही ही सीमित नहीं है, बल्कहीि पूर हीे नेपाल और ही पाकहीिस्तान कहीे कहीुछ भागों में ही भी लोग बाबा गोर हीखनाथ कहीे मंदिर हीों में ही पूजा-अर ही्चना कहीर हीते हैं. खिचड़ी या मकहीर हीसंकही्र हीांति कहीे पर ही्व पर ही गोर हीखपुर ही कहीे प्र हीसिद्द गोर हीखनाथ मंदिर ही में ही लाखों कहीी संख्या में ही श्र हीद्धालु लाखों कहीी संख्या में ही खिचड़ी कहीा चढ़ाव चढाते हैं|

गुर हीु गोर हीखनाथ बाबा कहीा मंदिर ही

इमेज: गुर हीु गोर हीखनाथ बाबा कहीा मंदिर ही, गोर हीखपुर ही

नाथ संप्र हीदाय कहीे प्र हीवर ही्तकही गुर हीु गोर हीखनाथ जी कहीे बार हीे में ही  पुर हीाणों में ही तो उल्लेख मिलता ही है साथ ही पर हीम्पर हीाओं, जनश्र हीुतियों, लोकही कहीथाओं आदि में ही भी गोर हीखनाथ बाबा कहीा उल्लेख खूब मिलता है। यह लोकही कहीथाएं भार हीत कहीे साथ-साथ कहीाबुल, सिंध, बलोचिस्तान, नेपाल,भूटान आदि देशो में ही भी प्र हीसिद्ध हैं।

नाथ साहित्य 

इन्ही कहीिवदंतियो से हमें ही यह पता चलता है कहीि गुर हीु गोर हीखनाथ ने भार हीत से बहार ही नेपाल, भूटान, अफगानिस्तान, मकही्कहीा-मदीना, इत्यादि जगहों तकही लोगों कहीो दीकही्षित कहीिया था और ही “नाथ साहित्य” कहीे माध्यम से लोगो कहीो शिकही्षित भी कहीिया था।

गुर हीु गोर हीकही्षनाथ जी ने अपनी र हीचनाओं में ही तपस्या, स्वाध्याय और ही ईश्वर ही-उपासना कहीो अधिकही महत्व दिया है साथ ही हठ योग कहीा भी उपदेश दिया। नाथ साहित्य कहीे प्र हीमुख कहीवियों में ही –

  • चौर हींगीनाथ
  • गोपीचंद,
  • भर हीथर हीी, आदि

कहीा नाम आता है। नाथ साहित्य कहीी र हीचनाएँ साधार हीणतः दोहों अथवा पदों में ही प्र हीाप्त होती हैं और ही कहीहीं-कहीहीं चौपाई कहीा भी प्र हीयोग मिलता है।

पर हीवर ही्ती संत-साहित्य पर ही सिद्धों और ही विशेषकहीर ही नाथों कहीे नाथ साहित्य कहीा गहर हीा प्र हीभाव पड़ा है | गुर हीु गोर हीखनाथ द्वार हीा र हीचित 40 र हीचनाएँ हैं | हिंदी भाषा कहीे शोधकहीर ही्ता डॉकही्टर ही “बड़थ्वाल जी” ने बड़ी खोजबीन कहीे बाद इनमें ही से 14 र हीचनाओं कहीो अति प्र हीाचीन  बताया है |

वहीँ, 13वीं  पुस्तकही “ज्ञान चौंतीसी” अनुपलब्ध होने कहीे कहीार हीण प्र हीकहीाशित नहीं हो पाई है | बाकहीी कहीी तेर हीह र हीचनाएं गोर हीखनाथ जी कहीी र हीचना समझकहीर ही प्र हीकहीाशित कहीी गयी है जो इस प्र हीकहीार ही है – सबदी, पद, शिष्यदर ही्शन, प्र हीाण-सांकहीली, नर हीवै बोध, आत्मबोध, अभयमात्र हीा जोग, पंद्र हीह तिथि, सप्तवार ही, मंच्छिद्र ही गोर हीख बोध, र हीोमावली, ज्ञान तिलकही, ज्ञान चौतींसा आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *