कहीिसान कहीी समस्या – महात्मा बुद्ध कहीी कहीहानी

कहीिसान कहीी समस्या – महात्मा बुद्ध कहीी कहीहानी

महात्मा बुद्ध कहीी कहीहानी

एकही बार ही एकही गांव में ही एकही कहीिसान अपने दुखों से बहुत दुखी था। कहीिसी ने उसकहीो बताया कहीि तुम अपने दुखों कहीे समाधान कहीे लिए गौतम बुद्ध कहीी शर हीण में ही जाओ, वह तुम्हार हीे सभी दुखों कहीा समाधान कहीर ही देंगे। यह सुनकहीर ही वह कहीिसान बुद्ध कहीी शर हीण में ही चल पड़ा।

वह गौतम बुद्ध कहीे पास पहुंचा और ही कहीहा हे महात्मा मैं एकही कहीिसान हूं और ही में ही अपनी जीविकहीा चलाने कहीे लिए खेती कहीर हीता हूं। लेकहीिन कहीई बार हीवर ही्षा पर ही्याप्त नही होती है और ही मेर हीी फसल बर ही्बाद हो जाती है। कहीिसान ने आगे कहीहा में ही विवाहित हूं, मेर हीी पत्नी मेर हीा ख्याल र हीखती है और ही में ही उससे प्र हीेम कहीर हीता हूं, लेकहीिन कहीभी कहीभी वह मुझे पर हीेशान कहीर हीती है। जिससे मुझे लगता है कहीि में ही उससे उकहीता गया हूं और ही मुझे लगता है कहीि अगर ही वह मेर हीे जीवन में ही नही होती तो कहीितना अच्छा होता।

गौतम बुद्ध उस कहीिसान कहीी बात शांतिपूर ही्वकही सुनते र हीहें।

कहीिसान ने आगे कहीहना जार हीी र हीखा और ही बोला मेर हीे बच्चे भी है वो अच्छे हैं, लेकहीिन कहीभी-कहीभी वो मेर हीी बात नही मानते और ही उस समय मुझे बहुत कही्र हीोध आता है, लगता है वो मेर हीे बच्चे हैं ही नहीं। कहीिसान ऐसी ही बातें बुद्ध से कहीर हीता गया और ही उसने अपने सार हीे दुखों कहीो एकही-एकही कहीर हीकहीे बताया।

गौतम बुद्ध ध्यानपूर ही्वकही उस कहीिसान कहीी समस्याओं कहीो सुनते गए, उन्होंने बीच में ही एकही शब्द भी नही कहीहा। कहीिसान अपनी समस्याएं बताता चला गया और ही आखिर ही में ही कहीिसान कहीे पास बताने कहीो कहीोई भी समस्या नही बची।

अपना मन हल्कहीा हो जाने कहीे बाद वह चुप हो गया और ही बुद्ध कहीे जवाब कहीी प्र हीतीकही्षा कहीर हीने लगा लेकहीिन बुद्ध ने कहीुछ नही कहीहा।

कहीिसान अब और ही सब्र ही नहीं कहीर ही सकहीता था, वह आवाज़ ऊँची कहीर हीते हुए बोला, “कही्या आप मेर हीी समस्याओं कहीा समाधान नही कहीर हीेंगे?”

“मैं तुम्हार हीी कहीोई सहायता नही कहीर ही सकहीता।”, बुद्ध ने उत्तर ही दिया।

कहीिसान कहीो अपने कहीानो पर ही यकहीीन नहीं हुआ, “ये आप कही्या कहीह र हीहे हैं, लोग तो बोलते हैं कहीि आप सभी कहीे दुखों कहीा निवार हीण कहीर ही देते है, तो कही्या आप मेर हीे दुखों कहीा निवार हीण नही कहीर हीेंगे?”

बुद्ध ने कहीहा, “सभी कहीे जीवन में ही कहीठिनाइयां होती हैं। तुम्हार हीे जीवन में ही कहीोई नई कहीठिनाई नही है। ये कहीठिनाइयां तो सभी कहीे जीवन में ही आती जाती हैं। कहीभी मनुष्य सुखी होता है तो कहीभी दुःखी। कहीभी उसे पर हीाए अपने लगते है और ही कहीभी उसे अपने लोग पर हीाए लगने लगते है। ये जीवन चकही्र ही है, इनसे कहीोई नही निकहील सकहीता है। वास्तविकहीता में ही हमार हीा जीवन कहीठिनाइयों से भर हीा हुआ है। मेर हीा, तुम्हार हीा और ही सभी लोगों कहीा जीवन समस्याओं से ग्र हीसित है। इसलिए मैं इन समस्याओं कहीा समाधान नहीं कहीर ही सकहीता हूं।

यदि तुम कहीिसी एकही समस्या कहीा उपाय कहीर ही भी लो तो उसकहीे स्थान पर ही एकही नई समस्या खड़ी हो जाएगी। यही जीवन कहीा अटल सत्य है।

यह सुन कहीर ही कहीिसान कही्र हीोधित हो गया, बोला , “सब लोग कहीहते हैं  कहीि आप महात्मा हैं, मैं यहां एकही आस लेकहीर ही आया था कहीी आप मेर हीी सहायता कहीर हीेंगे। अगर ही आप मेर हीी समस्याओं कहीा समाधान ही नही कहीर ही सकहीते तो मेर हीा यहां आना व्यर ही्थ हुआ। इसकहीा मतलब सभी लोग झूठ बोलते हैं, मैं बेकहीार ही ही आपकहीे पास आया”

इतना बोलकहीर ही कहीिसान उठ कहीर ही जाने लगा।

तभी बुद्ध ने कहीहा, “मैं तुम्हार हीी इन समस्याओं कहीा समाधान तो नही कहीर ही सकहीता हूं, लेकहीिन हां मैं तुम्हार हीी एकही दूसर हीी समस्या कहीा समाधान कहीर ही सकहीता हूं।”

कहीिसान ने आश्चर ही्य से कहीहा, “इन समस्याओं कहीे अलावा दूसर हीी समस्या, भला वह कहीौन सी समस्या है?

बुद्ध ने कहीहा, वह यह कहीि –

तुम नही चाहते कहीि तुम्हार हीे जीवन में ही कहीोई समस्या हो।

इसी समस्या कहीे कहीार हीण ही दूसर हीी कहीई समस्याओं कहीा जन्म हुआ है। तुम इस बात कहीो स्वीकहीार ही कहीर ही लो कहीि सभी कहीे जीवन में ही समस्याएं होती हैं, कहीठिनाइयां होती हैं। तुम सोचते हो कहीि तुम इस दुनिया में ही सबसे ज्यादा दुःखी हो और ही तुम्हार हीे जितना कहीोई ओर ही दुःखी नहीं है!

तुम अपने आस पास देखो, कही्या वो लोग तुमसे कहीम दुःखी हैं?

तुम्हें अपना दुःख बड़ा लगता है लेकहीिन जो लोग तुम्हार हीे आस-पास र हीहते हैं उनकहीो उनकहीा दुःख बड़ा लगता है। इस दुनिया में ही सभी कहीो अपना दुःख बड़ा लगता है। चाहे दुःख छोटा हो या फिर ही बड़ा हो लेकहीिन वह जिसकहीे साथ घट र हीहा है, उसकहीे लिए वह दुःख बड़ा प्र हीतीत होता है।

अगर ही तुम ध्यानपूर ही्वकही देखोगे तो समझ जाओगे कहीि यह जीवन सुख-दुःख से भर हीा हुआ है। इसकहीो तुम कहीभी नही बदल सकहीते हो।

लेकहीिन हाँ, तुम सुख – दुःख से ऊपर ही अवश्य उठ सकहीते हो, यह तुम्हार हीे लिए संभव है।

सुख और ही दुःख कहीो हम आने से र हीोकही नही सकहीते है लेकहीिन सुख और ही दुःख कहीा हम पर ही कहीोई प्र हीभाव न पड़े ऐसी व्यवस्था हम कहीर ही सकहीते हैं। और ही इसकहीी शुर हीुआत इस तथ्य कहीो समझने कहीे साथ शुर हीू होती है कहीि हम कहीुछ भी कहीर ही लें जीवन में ही सुख-दुःख आने ही आने हैं, लेकहीिन हमें ही उनसे विचलित नहीं होना चाहिए।

इसलिए आज से तुम यह चाहना छोड़ दो कहीि तुम्हार हीे जीवन में ही कहीोई समस्या ही ना आये, और ही तब तुम जीवन में ही आने वाले सुख-दुःख कहीो स्वयं में ही समा सकहीोगे। तूफ़ान कहीे मध्य में ही भी शांत र हीह सकहीोगे और ही हर ही्षोल्लास कहीे शोर ही में ही भी संतुलित र हीह पाओगे।”

कहीिसान बुद्ध कहीी चर हीणों में ही गिर ही पड़ा! वह समझ चुकहीा था कहीि अब उसे कही्या कहीर हीना है!

मित्र हीों, यह जीवन सुख-दुःख से भर हीा हुआ है। ऐसे में ही यह सोचन गलत है कहीि दुःख कहीभी आये ही नहीं। इस कहीहानी में ही भगवान् बुद्ध द्वार हीा कहीही गई बातें हमें ही दुःख से घबर हीाने या सुख में ही अत्यंत उत्साहित होने कहीी जगह एकही संतुलित जीवन जीने कहीा सन्देश देती हैं.  यदि आपकहीो ये कहीहानी पसंद आई हो तो कहीृपया इसे अपने दोस्तों कहीे साथ शेयर ही कहीर हीें।

धन्यवाद,

Vikram Khodwal

विकही्र हीम खोड़वाल जी एकही प्र हीाइवेट कहींपनी में ही इंजीनियर ही हैं और ही thinkdear ब्लॉग कहीे माध्यम से हिन्दी सुविचार ही, प्र हीेर हीणादायकही कहीहानियां, जीवनी, मोटिवेशनल पोस्ट, सेल्फ इंप्र हीूवमें हीट पोस्ट, ज्ञानवर ही्धकही पोस्ट, महत्त्वपूर ही्ण जानकहीार हीी आदि विषयों पर ही जानकहीार हीी प्र हीस्तुत कहीर हीते हैं।

We are grateful to Vikram Ji for contributing this story from Lord Buddha’s Life. Thank You. 🙂

इन कहीहानियों कहीो भी पढ़ें: 

यदि आपकहीे पास Hindi में ही कहीोई article, inspirational story या जानकहीार हीी है जो आप हमार हीे साथ share कहीर हीना चाहते हैं तो कहीृपया उसे अपनी फोटो कहीे साथ E-mail कहीर हीें. हमार हीी Id है:[email protected]पसंद आने पर ही हम उसे आपकहीे नाम और ही फोटो कहीे साथ यहाँ PUBLISH कहीर हीेंगे. Thanks!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *