Health & Fitness Latest Relationship

कंडोम का इतिहास, किस देश में पहली बार हुआ था इसका इस्तेमाल

इतिहास

इतिहास

हम सभी कंडोम से भली भांति परिचित हैं, पर इसके इतिहास से हम अनजान है और हम ये भी जानते हैं कि कंडोम न सिर्फ़ हमारी ज़िन्दगी को यौन संक्रामक बीमारियों से स्क्योर रखता है बल्कि ये इंसान की सेहत के लिए फायदेमंद भी है। लेकिन आपको शायद ये नहीं पता होगा कि, कंडोम  इस दुनिया में कब आया और क्या हमारे पूर्वज भी इसका इस्तेमाल सेक्स के दौरान करते थे? तो चलिए आज आपको कंडोम  के बारे में ऐसी ही कुछ जानकारियां देने जा रहे हैं जिनको पढ़ कर आप कंडोम के बारे में और अच्छे से जान पाएंगे।

प्राचीनकाल में भी होता था कंडोम इस्तेमाल

पुरातत्व विभाग द्वारा जब प्राचीनकालीन गुफाओं में बनी पेंटिंग्स की पड़ताल की तो पता चला कि, प्राचीनकाल के लोग भी सेक्स के दौरान लिंग को कवर करते थे। हालांकि वो इसको बनाने के लिए किस चीज का इस्तमाल किया करते थे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई । हालांकि, एक अनुमान के मुताबिक़ प्राचीनकाल के लोग लिनिन के टुकड़ों को आपस में सिलकर कंडोम बनाया करते थे। इस तरह का कंडोम या तो पूरे लिंग को कवर करता था या सिर्फ ऊपर के हिस्से को।

1400 ई. में बना कंडोम

एक पड़ताल के मुताबिक़ 1400 ई. से भी पहले लोग कंडोम इस्तमाल किया किया करते थे, इसको बनाने में जानवरों के सींग या कछुए की खाल का इस्तेमाल होता था। इसके बाद लिनिन का प्रयोग होने लगा। क़रीब  1700 ईस्वी तक इसका ऐसे कंडोम इस्तेमाल होता रहा।  कहा जाता है कि,इस दौरान लिनिन या बकरी की आंत या फिर उनके ब्लैडर्स का इस्तमाल होता था।

1700 ई. में पहली बार की गयी इसकी क्वालिटी की जांच

जानकारी के मुताबिक़, 1700 ई. में पहली बार कंडोम की क्वालिटी की जांच होना शुरू किया गया, और इसके जांच की सारी ज़िम्मेदारी कैसनोवा को दी गयी। बताया जाता है कि, कैसनोवा इसकी जांच इसमें हवा भरकर किया करते थे और ये सुनिश्चित किया करते कि, इसमें कोई छेद न हो। रबड़ के बने इस कंडोम मोटाई साईकिल के ट्यूब के बराबर होती थी।

1897 में इस कंपनी ने बनाया था कंडोम

1897 में एक कंडोम बनाने वाली कंपनी ने अपने लेबल्स पर क्वीन विक्टोरिया का चेहरा छापा था। जिसके बाद लोगों में इसको लेकर थोड़ी बहुत जागरूकता आना शुरू हुई, जिसके बाद  यूएस में 1918 में पहली बार कंडोम कानूनी और सार्वजनिक बिक्री हुई,इससे पहले इसे गैरकानूनी माना जाता था।

ठीक इसके एक साल बाद लैटेक्स का पहला कंडोम दुनिया में आया, 1957 में पहली बार लुब्रिकेटिड कॉडम यूके में आया जिसके  बाद गर्भनिरोधक के मैदान में क्रांति आ गयी।  कहा जाता है कि, जब एड्स  जंगल में आग की तरह फैल रहा था तो 1985 में लाइफस्टाई कंडोम मार्केट में आया। 90 का दशक कंडोम में क्रिएटिविटी का दौर था, इस दौरान निर्माताओं ने कई फ्लेवर, रंगों और टैक्सचर्स में लांच किया।

इसके बाद दुनियाभर में कंडोम की मार्किट में बूम आ गयी, और अब लोगों ने इसे अपनी ज़िन्दगी का एक हिस्सा बना लिया है।

/* ]]> */